Main Menu

प्रो. आर के सिन्हा, निदेशक

सीएसआइआर - केन्द्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन
सेक्टर-30, चंडीगढ़ - 160030 (भारत)


फोन : (91) -0172-2657190
फैक्स : (91) -0172-2657267
ई. मेल : यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.


प्रो. आर. के. सिन्हा ने वर्ष 1984 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), खड्गपुर से भौतिकी विषय में एम.एससी. और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), नई दिल्ली से वर्ष 1990 में फाइबर ऑप्टिक्स तथा ऑप्टिकल सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पीएच.डी. की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने वर्ष 1991 के दौरान भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलूरु ; वर्ष 1994-98 के दौरान बिरला प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान (बिट्स), पिलानी ; वर्ष 1994-98 में आरईसी (अब एनआईटी), हमीरपुर ; और 31 दिसम्बर, 1998 से 1 जुलाई, 2015 तक दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग-डीसीई (अब दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय-डीटीयू) में विभिन्न अनुसंधान एवं शैक्षणिक पदों पर कार्य किया।

 

प्रो. सिन्हा ने 2 जुलाई, 2015 को निदेशक, सीएसआईआर-केन्द्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन, चण्डीगढ़ के पद पर कार्यभार ग्रहण किया। उन्होंने दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय-डीटीयू (पूर्व में दिल्ली इंजीनियरिंग कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय) में अक्तूबर 2002 से अनुप्रयुक्त भौतिकी के प्रोफेसर एवं वर्ष 2005 में डीटीयू के उद्भव के समय से फाइबर ऑप्टिक्स एवं ऑप्टिकल कम्युनिकेशन में प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान एवं मूल्यांकन परिषद् (टीआईएफएसी)-सेन्टर ऑफ रेलेवेंस एंड एक्सीलेंस (कोर) के प्रमुख समन्वयक पद पर कार्य किया। उन्होंने डीटीयू में प्रोफेसर, अनुप्रयुक्त भौतिकी के पद पर अपनी लियन रखकर सीएसआईआर-सीएसआईओ में कार्यभार ग्रहण किया है। राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं (95) और सम्मेलन कार्यवाहियों (138) में उनके 233 शोधपत्र प्रकाशित हुए हैं। उन्होंने चार पुस्तकों में अध्याय और 2 पुस्तकें लिखी हैं तथा 1 पेटण्ट दर्ज करवाया है। प्रो. सिन्हा ने 14 पीएच.डी. शोध प्रबंध और सरकारी एवं निजी क्षेत्र द्वारा प्रायोजित 20 से अधिक अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं का पर्यवेक्षण किया है। उन्होंने डीसीई/डीटीयू दिल्ली में : (1) डीन (अकादमिक-यूजी)-जनवरी 2015 से जून 2015 (2) डीन (औद्योगिकी अनुसंधान एवं विकास) वर्ष 2008 से 2010 (3) प्रमुख, अनुप्रयुक्त भौतिकी विभाग मार्च 2009 से जुलाई 2012 (4) चीफ वार्डन वर्ष 2003 से 2006, पदों पर कार्य किया।

 

प्रो. आर. के. सिन्हा को (1) वर्ष 2012 में टेलिकॉम ग्रेड ऑप्टिकल फाइबर एवं ऑप्टोइलेक्ट्रॉनिक डिवाइसिस के क्षेत्र में श्रेष्ठ अनुसंधान के लिए आईईटीई द्वारा बिमन बिहारी सेन स्मृति पुरस्कार ; (2) नैनो फोटोनिक्स के क्षेत्र में उल्लेखनीय शोध कार्य के लिए इमरजिंग ऑप्टोइलेक्ट्रॉनिक्स टैक्नोलॉजी पुरस्कार सीईओटी-आईईटीई, भारत - 2006 पुरस्कार ; (3) नैनोस्ट्रक्चर इलेक्ट्रॉन वेवगाइड्स एंड डिवाइसिस पर आईईटीई तकनीकी समीक्षा 2002 में सर्वश्रेष्ठ शोधपत्र के लिए एस. के. मित्रा स्मृति पुरस्कार प्रदान किया गया। (4) उनके द्वारा सह-लेखक के रूप में तैयार किए गए शोधपत्रों को भी कई पुरस्कार प्राप्त हुए - इसमें राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी द्वारा नैनो-स्केल ऑप्टिकल डिवाइसिस के क्षेत्र में वर्ष 2001 के लिए स्वर्ण जयंती पुरस्कार (स्वर्ण पदक) ; रिलायंस प्रौद्योगिकी पुरस्कार 2010 ; एसपीआईई 2014 सर्वश्रेष्ठ शोध प्रस्तुतिकरण पुरस्कार तथ ओएसआई-2014 में दूसरा सर्वश्रेष्ठ पोस्टर प्रस्तुतिकरण पुरस्कार शामिल हैं।

 

प्रो. सिन्हा फुलब्राइट स्कॉलर हैं - वर्ष 2013 में अंतरराष्ट्रीय शैक्षिक प्रशासक के रूप में 12 से भी अधिक अमरीकी विश्वविद्यालयों एवं उच्च शिक्षा संस्थानों में उच्च शिक्षा प्रणाली एवं पद्धति की प्रत्यक्ष जानकारी प्राप्त करने के लिए उन्हें फुलब्राइट-नेहरू फैलोशिप प्रदान की गई। फरवरी 2010 में सिंगापुर में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन ‘एनओपीटी’ में वे प्रमुख वक्ता थे। उन्हें - (1) फोटोनिक क्रिस्टल आधारित नैनो फोटोनिक उपस्करों पर सहयोगात्मक अनुसंधान कार्य करने एवं आमंत्रित व्याख्यान देने के लिए नैशनल साइंस काउंसिल, ताइवान फैलोशिप-2009 सम्मान प्रदान किया गया। (2) नैनो फोटोनिक उपस्करों के क्षेत्र में ईपीएफएल स्विट्ज़रलैंड एवं डीटीयू, दिल्ली, भारत के साथ सहयोगात्मक अनुसंधान में पहल करने के लिए इण्डो-स्विस बाइलेटरल रिसर्च फैलोशिप-2009 (3) फोटोनिक क्रिस्टल वेवगाइड्स एवं डिवाइसिस के क्षेत्र में ग्लासगो यूनिवर्सिटी, यूके में अनुसंधान कार्य करने के लिए रॉयल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग (यू.के.) फैलोशिप (4) मल्टीकोर फोटोनिक क्रिस्टल फाइबर के क्षेत्र में होकायडो यूनिवर्सिटी, सापोरो, जापान में शोध कार्य करने के लिए जापान सोसायटी फॉर प्रमोशन ऑफ साइंस आमंत्रित फैलोशिप-2007 (5) प्रो. सिन्हा को वर्ष 2006 में यू.के. के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और उनके संगठन के बीच सहयोगात्मक शोध प्रारंभ करने के लिए ब्रिटिश कांउसिल ऑफ इंडिया से यूकेआईईआरआई फैलोशिप प्रदान की गई (6) उन्होंने वर्ष 2002 में स्टैन्फोर्ड यूनिवर्सिटी और वर्ष 2005 में एमआईटी, हावर्ड यूनिवर्सिटी व बोस्टन यूनिवर्सिटी का शैक्षणिक दौरा किया (7) आईसीटीपी ट्राएस्टे, इटली में-विज़िटिंग सांइटिस्ट फैलोशिप-1991 ; आइआरओएसटी फैलोशिप 1992 एवं  वर्ष 1995 में ब्राज़ील में यूनिवर्सिटी ऑफ कम्पनीज़ मे विज़िटिंग सांइटिस्ट (8) वर्ष 1989-91 के दौरान जापान में ओसाका यूनिवर्सिटी एवं कोबे यूनिवर्सिटी में कार्य करने के लिए जापानी सरकार की छात्रवृत्ति प्राप्त की।

 

प्रो. आर. के सिन्हा इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ ऑप्टिकल इंजीनियर्स और ऑप्टिकल सोसायटी ऑफ इंडिया के फैलो हैं तथा ऑप्टिकल सोसायटी यूएसए, आइईईई व आइईईई की फोटोनिक्स सोसायटी के सदस्य हैं। वे डीटीयू में एसपीआइई-डीसीई चैप्टर और ओएसए-डीसीई चैप्टर के सलाहकार भी हैं। प्रोफेसर सिन्हा मानव रहित एवं स्वायत्त वाहनों की परिकल्पना एवं विकास से संबंधित अनेक परियोजनाओं और छात्र नेतृत्व में नवाचार एवं विकास पर केन्द्रित ज्ञान एवं नवाचार पार्क की स्थापना के कार्य में सक्रियता से जुड़े रहे हैं।

 

 

खोज