Main Menu

 

सीएसआइआर द्वारा प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा के लिए अत्यधुनिक उपकरणों के  विकास हेतु सीएसआइआर-सीएसआइओ का चयन किया गया| संस्थान ने भूकम्पीय गतिविधियों को रिकॉर्ड करने संबंधी उपकरणों के विकास का कार्य प्रारम्भ किया| इनमें प्रयुक्त होने वाली विशिष्ट प्रकार की प्रौद्योगिकी के लिए संस्थान ने आइएमडी, एनजीआरआइ, ओएनजीसी एवं रूड़की विश्वविद्यालय के साथ विचार-विमर्श किया|

 


हमने भूकम्पलेखियों के विकास से कार्य प्रारम्भ किया जो भारतीय मौसम विभाग, नई दिल्ली में लगाए गए| इस सफलता से प्रेरित होकर संगठन ने हिम एवं अवधाव मॉनिटरिंग के लिए उपकरण-विन्यास के क्षेत्र में कदम रखा| भूकम्पीय ऑंकड़ों के लिए रिकॉर्डर एवं एननालाइज़र, और इन्क्लाइनो मीटर/टिल्ट मीटर का विकास उसी कड़ी में किया गया| इसी दौरान संस्थान ने स्थानीय, क्षेत्रीय एवं दूरस्थ क्षेत्रों में आने वाले भूकम्पों के लिए डेटाबेस तैयार किया| इसके लिए चण्डीगढ़, सुन्दरनगर, नौनी एवं सोलन में वेधशालाएं स्थापित की गईं| भूस्खलन मॉनिटरिंग कार्यक्रम के तहत हरिद्वार के निकट हिमालय क्षेत्र में मॉनिटरिंग उपस्कर स्थापित किए गए|

 
 

हिम मॉनिटरिंग के लिए तापमान, आर्द्रता, घनत्व, सघनता आदि परिमापकों के मापन के लिए संवेदियों का विकास किया गया| भूकम्पीय हलचलों के संसूचन के संबंध के किए गए कार्य को रेलवे के लिए भी प्रयुक्त करते हुए ऑसिलेशन मॉनिटरिंग प्रणाली का विकास किया गया, जिसके लिए सहयोग आरडीएसओ, लखनऊ से प्राप्त हुआ|

 

 

 

खोज